Accès direct au contenu


Version française > Accueil

एल ई ए - खाद्य टीम) जो एक अनुसंधान दल


‘L’Equipe Alimentation’ (एल ई ए - खाद्य टीम) जो एक अनुसंधान दल (EA 6294) के रूप में मान्यता प्राप्त किया गया था 1 जनवरी, 2012 पर,  François Rabelais विश्वविद्यालय में एक भोजन hub की स्थापना का एक अभिन्न हिस्सा 2005 से किया गया है। यह लगभग चालीस सदस्य जो इतिहासकार समाजशास्त्री, मानवविज्ञानी, और अर्थशास्त्री (व्याख्याता शोधकर्ताएँ संदर्शक शोधकर्ताएँ ,शोधसंदर्शक,  डॉक्टरेट अनुसंधान सहयोगियों, और शोधछात्र ) इन सब को एक साथ लाता है। यह सुरक्षा और भोजन सांस्कृतिक पारंपरिक के संवर्धन में युनेस्को के प्रधान (UNESCO Chair) के वैज्ञानिक जीवन शक्ति में एक बहुत ही पूर्ण भूमिका निभाता है।

ऐल.ई. ए खाद्य संस्कृति और उसकी वैज्ञानिक लोकप्रियता तथा स्थानीय अधिकारियों और व्यवसायों के साथ साझीदारी के रूप में तथा खाद्य और उसकी सामाजिक माँग इन दोनों क्षेत्रों का वैज्ञानिक अनुसंधान अच्छीतरह से विकसित कर रहा है। खाद्य की उत्पादन से लेकर विनियोग तक, खाद्य की पहचान और उसकी प्रभावता, खाद्य के प्रकार से संबंधित नवाचार और विवाद तथा सार्वजनिक बाजारों का विनिमय, उत्पादन क्षेत्रों की विरासत वृद्धि, सामाजिक व्यवहार ,पाककला के रूप और शिष्टाचार आदि इससे  ध्यान केंद्रित विशेष विषय हैं।

अनुसंधान के तीन सिद्धान्त वैज्ञानिक गतिविधियों के रूप देती है।

1. उत्पादन से विनियोग तक खाद्य प्रथाएँ और नवाचार –

दुनिया भर में प्राचीन काल से आज तक की खाद्य श्रृंखला में उपभोक्ताओं को खाद्य नवाचारों के प्रति प्रतिक्रिया की पहचान की सुविधाओं का अध्ययन। ये खाद्य नवाचार सांस्कृतिक विषयों की संरक्षकता के संदर्भ में और नए खाद्य की माननीयता के बीच में (जो जरूरतों को पूरा करने में असंतुष्ट रूप में हैं) पारंपरिक मूल्यों के संरक्षण पर आधारित हैं।

2. खाद्य पैकेजिंग, परिवहन, और सूचना प्रणालियाँ –

खाद्य वितरण प्रणाली के अध्ययन के आपूर्ति के रूपों के multiscale संगठन शामिल हैं। उत्पाद के तरीके से संबंधित संचार और मीडिया कवरेज भी अनुसंधान के महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं।

3. भोजन का समय सुशीलता और पाक कला का महत्व

विनियोग के संदर्भ में घर के अंदर और बाहर दोनों रूपों के भोजन से संबंधित व्यवहारों को अध्ययन करने के लिए अलग अलग दृष्टिकोण खुले हैं।जैसे - प्रफुल्लता और आतिथ्य, या बहिष्कार। व्यक्तिगत, समुदाय, परिवार की  प्रथाएँ  और उनकी पहचान के घटक एकीकरण के विकास की प्रथाएँ और सांस्कृतिक सामग्री या सामाजिक काल्पनिक तौर तरीकों (habitus) की अवधारणा से अमूर्त विरासत के, प्रथाएँ सामाजिककल्पना या सांस्कृतिकसामग्री की प्रथाओं के लिंग (gender) के अनुसार पहचान से संबद्ध है।     


  • Facebook
  • twitter
  • google
  • imprimer
  • version PDF
  • Envoyer cette page




 
Retour au site institutionnel